लालू के लाल-तेजस्वी यादव-Lalu ke lal tejswi yadav

 

लालू के लाल-तेजस्वी यादव

        लालू के लाल-तेजस्वी यादव  तेजस्वी  यादव, पुत्र लालू प्रसाद यादव का जन्म 8 नवंबर 1989 को हुआ वो आज की तारीख में एक राजनेता है ।

  तेजस्वी यादव आरजेडी का राष्ट्रीय अध्यक्ष है राष्ट्रीय जनता दल के विधायक दल के नेता प्रतिपक्ष है

लालू के लाल-तेजस्वी यादव
लालू के लाल-तेजस्वी यादव

तेजस्वी यादव बिहार विधानसभा में राघोपुर सीट से विधायक हैं तथा वे बिहार के चौथे तथा सबसे कम उम्र के उप मुख्यमंत्री रह चुके हैं।

20 नवंबर 2015 से 26 जुलाई 2017 तक उप मुख्यमंत्री के पद पर रह चुके हैं वह एक क्रिकेटर के तौर पर भी जाने जाते  है चुनावी हलफनामे के मुताबिक 10वीं तक पढ़ाई किए हैं विधानसभा जीतने के बाद वे तेजी से उभरते हुए युवा नेता है

लालू के लाल-तेजस्वी यादव के फॉलोवर

             ट्विटर हैंडल पर उनके 2 मिलियन से भी ज्यादा फॉलोअर हैं तेजस्वी यादव आज बिहार को एक नई दिशा देने के लिए रात दिन मेहनत कर रहे हैं।

 तेजस्वी यादव पिता लालू प्रसाद यादव के जेल जाने के बाद 2020 के आम चुनाव में अपनी बेबाकी भाषण एवं बिहार के जनता के दिलों में धड़कन बनकर धड़क रहे हैं।

 

        आज तेजस्वी को हराने के लिए दो दर्जन से ज्यादा हेलीकॉप्टर उड़ान भर रहे हैं जिस तरह वीर अभिमन्यु को परास्त करने के लिए कौरवो की  सेना ने चक्रव्यूह की रचना की थी।

ठीक उसी तरह पिता लालू यादव को जेल में बंद कर के बीजेपी लालू के लाल को  हराने के लिए पूर्ण कोशिश कर रही है।

         जिस बिहार में चुनाव के वक्त बीजेपी कोरोना की मुफ्त वैक्सीन बांटने की कवायद कर रही है उन्हीं बिहार वासियों को लॉकडाउन के दौरान मरने के लिए सड़कों पर छोड़ दिया गया उस वक्त बीजेपी को बिहार वासियों की कोई चिंता नहीं थी।

विपक्ष में बैठी कांग्रेश बिहार वासियों का पलायन सुगम बनाने के लिए जिन बसों का इंतजाम किया था सत्ताधारी सरकार ने उनके फिटनेस पर सवालिया निशान खड़ा करके उन्हें भी रोक दिया।

देश में एक तिहाई से ज्यादा राज्यों में बीजेपी की सरकार है बिहार वासियों को मुफ्त वैक्सीन देने का वादा  मात्र एक जुमला है जिस प्रकार हर एक भारतीय के अकाउंट में 1500000 आएगा जुमला था।

लालू के लाल-तेजस्वी यादव का ऐलान 2020 का विधान सभा चुनाव

        तेजस्वी यादव के 1000000  सरकारी नौकरी देने के ऐलान के बाद एनडीए बैकफुट पर आती दिखी इसलिए तुरंत 19 लाख नौकरी देने का वादा भी एक जुमला है।

सरकारी कंपनियां प्राइवेट होगी भारतीय रेलवे बिक जाएगा एलआईसी बिक जाएगा बिजली विभाग बिक जाएगा इंडियन एयरलाइंस बिक जाएगा इत्यादि सब कुछ तो सरकार प्राइवेट करती जा रही है फिर 1900000

नौकरी कहां से देगी यह भी एक चुनावी हथकंडा है।

             आज की वर्तमान सरकार अपनी नाकामी का ठीकरा पिछली सरकार पर फोड़ कर जनता को सिर्फ मूर्ख बना सकती है।

बीजेपी सरकार आनन-फानन में बड़े बड़े फैसले लेकर जनता के बीच अपने आपको फैसला वादी छवि बनाने के चक्कर में पूरे देश को गर्त में ले कर जा रही है।

       आज भारतीय अर्थव्यवस्था माईनस 25% तक चली गई है जिसका मुख्य कारण नोटबंदी जीएसटी आनन-फानन में किया गया संपूर्ण लॉकडाउन पूर्ण जिम्मेदार है भारतीय इतिहास में इन फैसलों को काले अक्षरों में लिखा जाएगा।

लालू के लाल-तेजस्वी यादव
लालू के लाल-तेजस्वी यादव

 

जिस वक्त देश के अंदर कोरोना महामारी नहीं आया था उस वक्त सरकार सो रही थी अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मेहमान नवाजी कर रही थी और जब करो ना भारत में प्रवेश कर गया तो आनन-फानन में संपूर्ण लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया है।

        जिससे बेतहाशा महंगाई की मार देश को झेलनी पड़ रही है जीडीपी 25 परसेंट से ऊपर चला गया है करोड़ों लोग बेरोजगार हो गए हैं इसलिए बीजेपी अथवा एनडीए सिर्फ बिहार ही नहीं पूरे भारत को झूठे वादों की आग में झोंक दी हैअच्छे दिन के लुभावने सपने दिखाते दिखाते बुरे बुरे दौर में झोंक दिया।

       जिस जातिवाद परिवारवाद का नारा देकर सरकार सत्ता में आई थी आज उसी का नंगा नाच उत्तर प्रदेश में हो रहा है जिसे पड़ोसी राज्य की जनता को देखना तथा सुनना चाहिए।

सुनने में आया है कि उत्तर प्रदेश के सीएम योगी जी आजकल बिहार की जनता को खूब लॉलीपॉप खिला रहे हैं ,अरे भाई उत्तर प्रदेश का लॉलीपॉप खिलाए नहीं और बिहार चले गए संभल कर रहिएगा बिहार की जनता बहुत समझदार है कहीं आपको और कुछ ना खिला दे।

   लालू के लाल-तेजस्वी यादव के सामने     प्रधानमंत्री की गरिमा

हमारे प्रधानमंत्री जी पीएम के गरिमा को ताक पर रखकर बीजेपी का झंडा बुलंद करने के लिए जिस राज्य में भी चुनाव होता है वहां पर मुंह उठाकर मुख्य प्रचारक की भूमिका निभाने चले जाते है।

वह अपनी गरिमा भूल जाते हैं भारत के इतिहास में पहला ऐसा प्रधानमंत्री है जो इतना चुनाव प्रचार में दिलचस्पी दिखाता है।

जनताको सोचना चाहिए कि अगर देश का प्रधानमंत्री एक सभा का आयोजन करता है तो उसमें सरकार के कोष से कितना रुपया खर्च होता है जिसकी भरपाई जनता के ऊपर चुनाव के बाद लाद दी जाती है।

न्यूज़ चैनल पर सबसे ज्यादा माननीय पीएम नरेंद्र मोदी की सभाओं का टेलीकास्ट होता है विपक्ष का बहुत ही कम सभाओं का टेलीकास्ट किया जाता है।

ऐसा क्यों क्योंकि बीजेपी की तरफ से मीडिया को पैसा खिलाया जाता है वह भी बहुत ज्यादा विज्ञापन पर बीजेपी पैसा खर्च करती है जो जनता की गाढ़ी कमाई है।

              इसलिए बिहार की जनता को अभी बदलाव करना होगा एक नई सरकार बनाना होगा एक नई सोच के साथ जो बिहार को एक नई दिशा दे सके और युवाओं को रोजगार दवाई पढ़ाई कमाई के तर्ज पर तेजस्वी को अपना मतदान करना चाहिए।

             आज बीजेपी जो जंगलराज का हवाला देकर बिहार के लोगों को मूर्ख बना रहे हैं क्या वही जंगलराज पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश में नहीं है जैसे हाथरस कांड बलिया कांड बहुत सारे कांड हो रहे हैं जिसका हवाला बीजेपी कभी नहीं दे पाती ।

        जो   बीजेपी सरकार जातिवाद का हवाला देती है वह खुलेआम उत्तर प्रदेश में बलिया जिला के गोली कांड पर अपने गुर्गों के द्वारा गोली मारने पर आत्म रक्छा की वकालत करती है।

क्यो की मुजरिम ठाकुर कास्ट से आता है बलिया के विधायक के द्वारा  खुलेआम जातिवाद किया जा रहा है क्यो की योगी जी ठाकुरों के बहुत बड़े हिमायती है ।

              “लालू राबड़ी तेजप्रताप  के,चाल निराला  बा  ए   

               नीतीश बाबू ,ए मोदी जी अब की तेजस्वी से पाला 

               बा”

थैंक्स

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *