अमीर सोच Rich thinking

अमीर सोच Rich thinking                                 

अमीर सोच Rich thinking
अमीर सोच Rich thinking

इंसान की सोच पर इंसान कि जिंदगी की नीव रखी जाती है जिसपे अमीरी की इमारत खड़ी की जा सकती है इसलिए, इंसान  भले ही  गरीब हो परन्तु उसकी सोच अमीर होनी चाहिए दुनिया के सामने अपने आपको कभी भी गरीब के रूप में प्रस्तुत मत कीजिए अन्यथा दुनिया को आपकी लाचारी नजर आईगी और लाचार व्यक्ति कभी अमीर नहीं बन सकता है ।

               हम सब पांच दस रुपया बचाने के चक्कर में किसी दुकानदार से बहुत देर तक रिक झिक करते  है ऐसा करके हम उस दुकानदार को अपनी लाचारी दिखा देते है । कभी कभी तो हम यहां तक कह देते है की “भाई अभी हमारे पास इतना ही पैसा है इसलिए इससे ज्यादा नहीं दे सकता” इससे उस दुकानदार के मन में आपके प्रति एक लाचार मनुष्य की छवि प्रस्तुत होती है इसलिए जिंदगी में कभी भी ऐसी भूल ना करे।

    हैबिट अमीर सोच की  Habit Amir Thinking

अमीर सोच Rich thinking

अमीर सोच Rich thinking

अमीर सोच रखने वाले व्यक्ति की एक मानसिक हैबिट होनी चाहिए जैसे हमारी हैबिट सुबह जल्दी उठना ,मॉर्निंग वॉक करना ,चाय पीना,पेपर पढ़ना इत्यादि ये हमारी एक हैबिट है जिसे हमें हर सुबह करना ही पड़ता है चाहे जो कुछ भी हो जाय । ठीक उसी तरह उसी हैबिट में हमें अपनी मानसिकता को भी समिल करना चाहिए फिर देखिए आपकी तरक्की कोई नहीं रोक सकता है।

         लाईफ में अपने आपको हमेशा अपग्रेड रखिए हमेशा आपका कपड़ा ड्राई क्लीन होना चाहिए यहां तक कि आपका रहन सहन साफ सुथरा होना चाहिए थोड़े पैसे बचाने के चक्कर में किसी से किच किच नहीं करना चाहिए हमें अपने आप को अपग्रेड में महीने का कितना खर्च आएगा , ज्यादा से ज्यादा दो सव से तीन सौ , हम जब भी नाई के पास जाय तो उसके मांगने के अनुसार बीस रुपया ज्यादा ही देना चाहिए इससे क्या होगा ज्यादा से ज्यादा साल के दो सौ से दो सौ चालीस रुपया ज्यादा हमारे जेब से खर्च होगा और यही दो सौ चालीस रुपया हमारे व्यक्तित्व को एक अमीर इंसान के सामने भी हमें एक नई पहचान देगा एक अमीर आदमी भी चार चका गाड़ी से उतरकर जब उस नाई की दुकान पर जाएगा तो उसके पहले नाई आपको बड़े अदब से बोलेगा कि “सर आइए ना बैठिए और आपको बड़े सम्मान के साथ कुर्सी पर बैठाएगा उस अमीर आदमी के सामने जरा सोचिए आपका कद कितना उचा होगा,वो नाई आपको ऐसे ही इतना सम्मान नहीं दे रहा है वो बीस रूपए जो आपके जेब से ज्यादा खर्च होता है वो सम्मान दिला रहा है।

अमीर सोच का आत्म बिस्वाश Rich thinking confidence

              जिस दिन एक औरत ब्यूटीपार्लर से जब मेकअप करा कर आती है उस दिन उसकी चाल देखिए लगता है कितनो को मार डालेगी ,जब हम एक नया अंडर बियर पहन लेते है तो हमारी अंदर एक अजीब सी filing आती है हम अपने आपको एक तरोताजा ,ऊर्जावान महसूस करते है उस दिन हमारा मनोबल सातवे आसमान पर होता है उस दिन कोई हम से कह दे तो चांद से तारे भी तोड़ कर ला सकते है ये है अपने आपको अपग्रेड रखने की ताकत  इसलिए जिंदगी में अपने आपको कभी भी दूसरे के सामने गरीब बनकर मत जाइए अपने आपको हमेशा अमीर की तरह प्रस्तुत कीजिए यही सोंच आपको एक दिन आपकी मंजिल तक पहुंचाएगी इसलिए मालिक अपने मन का बनिए और हाथ खोल के अपनी छमता के अनुसार दूसरे को दान दीजिए कभी किसी के साथ पैसे को लेकर किच किच मत कीजिए ।

             इंसान दुनिया में ऊपर से क्या लेकर आता है जो भी धन संपदा इक्कठा करता है वो इसी मृतलोक में इक्कठा करता है और सबकुछ यही छोड़ कर चला जाता है खाली हाथ आता है और खाली हाथ ही जाना पड़ता है बस कुछ छोड़ कर जाता है तो वो है उसकी यादे उसका स्वभाव उसका आचरण जिसे दुनिया हमेशा जीवित रखती है ।

थैंक्स सुक्रिया आदाब

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *